Jorhat

JORHAT : मासखमण तपस्विनी जयश्री के सम्मान में निकली रंगारंग शोभायात्रा

2022 सितंबर 27 /PRJ न्यूज़ ब्यूरो,जोरहाट:
जोरहाट जैन श्वेतांबर तेरापंथ भवन में सोमवार को  मासखण तप का संकल्प पूर्ण करने वाली जयश्री नाहटा का अभिनंदन किया गया। इससे पहले सुबह नौ बजे भव्य रथ में सवार होकर जयश्री की शोभायात्रा उनके राजा मैदाम रोड स्थित निवास स्थान से निकली। इस दौरान सैकडों की संख्या में पुरूष व महिलाओं ने गाजे बाजे के साथ इस शोभायात्रा में भाग लिया। नगर परिक्रमा कर मारवाड़ी ठाकुरबाड़ी परिसर पहुंची शोभायात्रा के बाद यहां अभिनंदन कार्यक्रम हुआ।
इस मौके पर गुवाहाटी से खास तौर पर पधारी समणी निर्देशिका व उनकी सहवर्तिनियों के सान्निध्य में समारोह का शुभारंभ हुआ। तेरापंथ सभा के अध्यक्ष अशोक भूतड़िया, तेरापंथ महिला मंडल की अध्यक्षा मनुजा पींचा व तेरापंथ युवक परिषद के सचिव प्रवीण भंडारी ने समारोह में अपना संबोधन रखते हुए तप की अनुमोदना की। इसके बाद समणी निर्देशिका मधुरप्रज्ञा जी ने अपने प्रवचन व गीतिका के माध्यम से जयश्री के तप का अनुमोदन किया।
उन्होंने कहा कि आत्मा की शुद्धि का विचार ही जयश्री को तप के इस कठिन मार्ग पर चलने में प्रेरणास्रोत बना। शांति मालपानी ने अपनी भावना समारोह में व्यक्त की, वहीं दुर्गा गट्टानी ने सुंदर राजस्थानी गीत के जरिये जयश्री के तप को रेखांकित किया। इस मौके पर विभिन्न संगठनों ने भी शॉल व साहित्य भेंट कर जयश्री का अभिनंदन किया। इनमें मारवाड़ी ठाकुरबाड़ी प्रबंध समिति, मारवाड़ी सम्मेलन, दिगंबर जैन पंचायत, दिगंबर जैन महिला समिति के साथ ही तेरापंथ समाज के तीनों संगठन शामिल रहे।
समारोह का संचालन सीए छत्तर सिंह चौरड़िया ने किया। नाहटा परिवार की तरफ से जयश्री के पति शरद नाहटा ने तप के इस साधन में समाजबंधुओं की तरफ से मिले समर्थन व सहयोग के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। अंत में सभा के सचिव सुभाष भंडारी ने सभी का आभार व्यक्त किया। उल्लेखनीय है कि जोरहाट जैन श्वेतांबर तेरापंथ समाज में मासखमण तप का भाव पूर्ण करने वाली जयश्री तीसरी महिला है। इससे पहले साल 2013 में संगीता कुंडलिया ने इस कठिन तप के मार्ग को अपनाया था। वहीं समाज की वरिष्ठ सदस्या मंजू भंसाली भी काफी अर्से पहले मासखमण तप का पहली बार यहां साधन कर औरों को राह दिखा चुकी है।

Related Articles

Back to top button