AssamJorhat

JORHAT : जोरहाट मेडिकल कॉलेज अस्पताल में लापरवाही का बड़ा मामला

2023 मार्च 11 / PRJ न्यूज़ ब्यूरो:

जोरहाट चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल में इलाज में गफलत का एक बड़ा मामला सामने आया है। यहां एक नौ साल के बच्चे कल्पज्योति हजारिका के गलत पैर का ऑपेरशन चिकित्सकों द्वारा करने के बाद बवाल मचा है। देरगांव का रहने वाला नौ वर्षीय पीड़ित बीते दिसंबर महीने से ही जोरहाट मेडिकल कालेज अस्पताल में उपचार ले रहा था। उसके दाहिने पैर में समस्या थी, जिसके चलते डॉक्टरों ने ऑपरेशन की सलाह दी थी। लेकिन कल हुए ऑपेरशन के बाद सामने आई लापरवाही ने जेएमसीएच में व्यवस्था पर बड़ा सवाल खड़ा कर दिया। आरोप है कि चिकित्सकों ने बीमार दाहिने पैर कि बजाय बच्चे के बाएं पैर का ऑपेरशन कर दिया।

बच्चे के पिता का कुछ साल पहले निधन हो गया था। पीड़ित की मां ने जब इस लापरवाही पर चिकित्सकों से सवाल पूछा तो उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि उसके बाएं पैर में भी समस्या थी, जिसके चलते उसका ऑपेरशन करना पड़ा। हालांकि ऑपेरशन से पहले हुए टेस्ट में बाएं पैर में कोई समस्या नजर नही आई। इस बीच चिकित्सकों ने अपनी गलती सुधारते हुए बच्चे के दाएं पैर का ऑपेरशन भी फिर कर दिया। मामला प्रकाश में आने के बाद जेएमसीएच अधीक्षक डा. पूर्णिमा बरुआ ने अपनी तात्कालिक प्रतिक्रिया में कहा कि उन्हें जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक बच्चे के बाए पैर में भी समस्या थी।इस बात का पता डॉक्टरों को बाद में चला।

इंट्रा ऑपरेटिव सर्जरी के मामले में कई बार चिकित्सक अपनी धारणा बदलते है और प्रारंभिक टेस्ट रिपोर्ट कि बजाय बाद में सामने आए लक्षणों के आधार पर फैसला लेते है। हालांकि बरुआ ने मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी जांच की बात कही। जांच के बाद ही पूरी तस्वीर सामने आ पाएगी। इस संबंध में उन्होंने एक आदेश जारी कर तीन सदस्यीय जांच समिति का गठन किया है।

यह जांच समिति अगले दो दिनों के अंदर अपनी रिपोर्ट जेएमसीएच प्रिंसिपल व अधीक्षक को सौंपेंगी। जांच समिति में ऑर्थोपेडिक विभाग के प्रमुख डा. प्रांजल तहबिलदार व अस्पताल के उप अधीक्षक पुलकानंद भराली के साथ ही डॉक्टर पूर्णिमा बरुआ खुद शामिल है।

Related Articles

Back to top button