Assam

मुख्यमंत्री सरमा ने मोदी और शाह से की मुलाकात !

असम के हालात, सीमा विवाद और विकास पर हुई चर्चा!

2021 August 10 / PRJ News ब्युरो / नई दिल्ली : 

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर उन्हें मिजोरम के साथ सीमा विवाद से जुड़े तथ्यों की जानकारी दी और शांति स्थापित करने के लिए प्रदेश सरकार के कदमों के बारे में बताया। सरमा ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया और उत्तर-पूर्व के विकास मामलों के मंत्री जी किशन रेड्डी से भी मुलाकात की।

मुख्यमंत्री ने सीमा विवाद, विकास योजनाओं के बारे में प्रधानमंत्री को कराया अवगत

सरमा ने राज्य के सांसदों के साथ प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और अन्य मंत्रियों से मुलाकात की। मुलाकात में प्रधानमंत्री को सीमा विवाद के अतिरिक्त राज्य में चल रही विकास योजनाओं की प्रगति के बारे में बताया गया। साथ ही राज्य की अपेक्षाओं से भी प्रधानमंत्री को अवगत कराया गया।

पीएम मोदी ने कहा- असम सरकार को सहयोग देने में केंद्र सरकार नहीं छोड़ेगा कोई कसर

प्रधानमंत्री मोदी ने असम की नई सरकार से जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने के लिए पूरे मनोयोग से कार्य करने को कहा। आश्वासन दिया कि राज्य के विकास में सहयोग देने में केंद्र सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

सरमा ने अमित शाह से सीमा विवाद और कानून व्यवस्था पर की वार्ता

सरमा और सांसदों ने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात में सीमा विवाद और कानून व्यवस्था की स्थिति के बारे में विस्तार से चर्चा की। शांति कायम करने के प्रयासों के बारे में बताया। बताया कि दोनों प्रदेशों ने शांति स्थापित करने के लिए विवादित इलाके में तटस्थ बलों की गश्त का फैसला किया है। इस फैसले के तहत इलाके में फिलहाल केंद्रीय बल तैनात हैं। राज्य में कोरोना संक्रमण की स्थिति और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं पर सरमा और सांसदों ने स्वास्थ्य मंत्री मांडविया से बात की। उत्तर-पूर्व मामलों के मंत्री रेड्डी से मुलाकात में विकास योजनाओं को गति देने पर बात की गई जिससे उनका फायदा जनता को जल्द मिल सके।

सीमा विवाद को कांग्रेस ने लटकाया : सरमा

प्रेस  साक्षात्कार में मुख्यमंत्री सरमा ने कहा, असम-मिजोरम सीमा पर शांति है, लेकिन यह ऐसी समस्या है जिसका समाधान रातों-रात संभव नहीं है। यह समस्या ब्रिटिश शासनकाल से है जिसे कांग्रेस की सरकारों ने अपने फायदे के लिए लटकाए रखा। विदित हो कि 26 जुलाई को दोनों राज्यों के सुरक्षा बल आमने-सामने आ गए थे। उस दौरान दोनों ओर से हुई फायरिंग में असम पुलिस के छह जवानों और एक नागरिक की मौत गई थी।

Related Articles

Back to top button