Assam

Assam: शेरमन अली अहमद को कांग्रेस ने किया निलंबित, राजद्रोह केस के बाद , जानिए पूरा मामला

कांग्रेस ने निलंबन के समय बयान में कहा विधायक शेरमन अली अहमद ने पार्टी के अनुशासन का बार-बार उलंघन किया है, जिस वजह से पार्टी से उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है.

2021 अक्टूबर 05/ PRJ News ब्युरो, असम:

असम कांग्रेस (Assam Congress) ने अपने विधायक शेरमन अली अहमद (Sherman Ali Ahmed) को निलंबित कर दिया है. दरअसल शेरमन ने 40 साल पहले निष्कासन अभियान पर एक भड़काऊ बयान दिया था. जिसके बाद उन्हें राजद्रोह के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया था. कांग्रेस ने निलंबन के समय बयान में कहा विधायक शेरमन अली अहमद ने पार्टी के अनुशासन का बार-बार उलंघन किया है, जिस वजह से पार्टी  से उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है.

क्या था शेरमन अली अहमद का मामला?

दरअसल शेरमन अली ने 1983 में दरांग जिले में अतिक्रमण रोको अभियान के दौरान भड़काऊ टिप्पणी की थी, जिसको लेकर उन्हें गिरफ्तार किया गया है, शेरमन पर राजद्रोह का मामला है। शनिवार को दिसपुर में उन्हें हिरासत में लिया गया था. जिसके बाद पुलिस ने उनसे पूछताछ की और उन्हें पानबाज़ार थाने ले जाया गया, जहां बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस के मुताबिक शेरमन पर आईपीसी की धारा 124ए के तहत मामला दर्ज किया गया है।

विधायक अहमद ने कथित तैर पर कहा था 1983 के आंदोलन में मारे गए आठ लोग शहीद नहीं बल्कि हत्यारे थे. क्योंकि उन्होने सिझापार इलाके के अल्पसंख्यकों समुदाय के लोगों की हत्या की थी, श्रमन ने कहा था कि जो 8 लोगों पर हमला हुआ था वह सिर्फ़ आत्मरक्षा का काम था। इस भाषण को लेकर ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन और भारतीय जनता पार्टी की युवा मोर्चा भाजयुमो के अलावा कई संगठनों ने उनके खिलाफ़ शिकायत दर्ज कराई थी।

Related Articles

Back to top button