National

महाराष्ट्र – ED ने PWP पार्टी से पूर्व विधायक विवेकानंद पाटिल की 234 करोड़ की संपत्ति अटैच की !

विवेकानंद पाटिल पर 560 करोड़ का बैंक धोखाधड़ी करने का आरोप है, और ED ने जून में गिरफ़्तार कर चार्जशीट दाखिल की थी।

2021 अगस्त 17/ PRJ News ब्युरो / नई दिल्ली:

ज्ञातव्य हो कि विवेकानंद शंकर पाटिल चार बार विधायक रह चुके हैं और करनाला नगरी सहकारी बैंक लिमिटेड, पनवेल के पूर्व अध्यक्ष भी रह चुके हैं. ईडी ने वर्ष 2019 में मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) द्वारा दर्ज प्राथमिकी के आधार पर जांच शुरू की थी।

2019-20 में रिजर्व बैंक के कहने पर ऑडिट किए जाने के बाद धोखाधड़ी का पता चला, जब इसे पता चला कि पाटिल 63 फर्जी ऋण खातों के माध्यम से करनाला चैरिटेबल ट्रस्ट और करनाला स्पोर्ट्स अकादमी के ऋण खातों में बैंक से धनराशि निकाल रहा था, जिसे विवेकानंद पाटिल द्वारा स्थापित और नियंत्रित किया गया था. यह धोखाधड़ी 2008 से चल रही थी. यह पाया गया कि बैंक का प्रबंधन विवेकानंद पाटिल के नियंत्रण में था. ईडी ने उन्हें 15.06.2021 को गिरफ्तार किया. पीएमएलए के तहत मनी लॉन्ड्रिंग जांच से पता चला है कि धोखाधड़ी की गई राशि 67 फ़र्ज़ी खातों में करीब 560 करोड़ रुपये है. चोरी को छिपाने के लिए, उपलब्ध धन को इन फर्जी खातों में और इन खातों से पाटिल द्वारा नियंत्रित संस्थाओं के कई बैंक खातों में भेजा गया था।

Related Articles

Back to top button