Education

JEE Main 2022 Topper: गुवाहाटी की स्नेहा पारीक ने किया टॉप, 14 छात्रों ने हासिल किए 100 परसेंटाइल

स्नेहा पारीक ने 100 फीसदी अंको के साथ जेईई मेन सेशन 1 में किया टॉप, कोचिंग इंस्टीट्यूट ने रिजल्ट से पहले ही कर दिया दावा

2022 जुलाई 11/PRJ न्यूज ब्यूरो, असम :

JEE Main 2022 Session 1 topper Sneha Pareek

JEE Main 2022 Topper: जेईई मेन 2022 का परिणाम (JEE Main 2022) आज घोषित कर दिया गया है. जेईई मेन सत्र 1 की परीक्षा में गुवाहाटी की स्नेहा पारीक ने टॉप किया है. उन्हें 300 में पूरे 300 अंक मिले हैं. स्नेहा पारीक कंप्यूटर साइंस में बीटेक करना चाहती हैं . उन्होंने कहा, “सभी आईआईटी प्रतिष्ठित हैं और उल्लेखनीय संकाय द्वारा प्रतिनिधित्व किया जाता है. इसलिए मैं किसी भी आईआईटी में शामिल होने के लिए तैयार हूं जो मेरा पसंदीदा पाठ्यक्रम देता है. अगर कोई  पसंदीदा विकल्प के रूप में पूछता है तो मैं IIT-बॉम्बे का चयन करूंगी.”

पिछले दो सालों से स्नेहा ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (JEE Main 2022) की तैयारी पर फोकस कर रही हैं. परीक्षा की तैयारी के चलते वह काफी समय से सोशल मीडिया और अन्य मनोरंजक गतिविधियों से दूर रहीं. अपनी तैयारी और कामयाबी पर स्नेहा ने कहा, “मैंने रोजाना लगभग 12 से 13 घंटे पढ़ाई की और बोर्ड परीक्षाओं से ज्यादा खुद को जेईई की तैयारी के लिए पूरी तरह समर्पित कर दिया.

स्नेहा अपने सीबीएसई कक्षा 12वीं के बोर्ड के परिणामों की प्रतीक्षा कर रही है और उन्हें उम्मीद है कि उन्हें अच्छे परिणाम मिलेंगे. सीबीएसई बोर्ड की कक्षा 12वीं टर्म 2 का रिजल्ट अब तक जारी नहीं हुआ है. स्नेहा ने गुवाहाटी में रह कर ही जेईई मेन परीक्षा की तैयारी की है. वह परिवार से दूर नहीं जाना चाहती थी. उन्होंने कहा, “मैंने कोटा में तैयारी के दौरान छात्रों के अकेलेपन का अनुभव करने की कहानियां सुनी थीं, मैं उससे नहीं गुजरना चाहती थी. परिवार के करीब रहने से मेंटल सपोर्ट और मनोबल बढ़ता है. इन चीजों ने मेरे लिए अच्छा काम किया.”

जेईई मेन की तैयारी के बारे में बात करते हुए, स्नेहा ने कहा कि उन्होंने एलन करियर इंस्टीट्यूट द्वारा साझा किए गए कोचिंग नोट्स का पालन किया. इसके अलावा उन्होंने एचसी वर्मा की फिजिक्स और सुदर्शन गुहा की केमिस्ट्री की किताब भी पढ़ी है.

बता दें कि स्ननेहा जेईई मेन 2022 परीक्षा के दूसरे सत्र में शामिल नहीं होंगीऔर अब जेईई एडवांस की तैयारी करेंगी. उन्होंने कहा कि जेईई एडवांस के लिए उसकी रणनीति ‘अधिकतम मॉक टेस्ट का अभ्यास’ करना ही रहेगा, जैसा मैंने इस परीक्षा के लिए किया है.

 

कोचिंग की फैकल्टीज अनुभवी और बेहद सपोर्टिव 
मेरा विश्वास है कि नींव मजबूत होनी चाहिए. पिछले दो साल में जो भी पढ़ाया, वही जेईई मेन में काम आया. इसके अलावा प्रेक्टिस टेस्ट से काफी सपोर्ट मिला, क्योंकि इनका पैटर्न और डिफीकल्टी लेवल जेईई मेन जैसा होता है. इससे मेन के पेपर में परेशानी नहीं आई कोचिंग की फैकल्टीज अनुभवी और बेहद सपोर्टिव है.

 

Related Articles

Back to top button