Bihar

लालू के बड़े लाल आज गुस्से में : संजय यादव कौन होते हैं मुझे तेजस्वी से बात करने से रोकने वाले : तेज प्रताप

2021 अगस्त 20/ PRJ News ब्युरो पटना:


लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल में राजनीतिक घमासान अब और भी तेज होता जा रहा है। तेज भाइयों के बीच चल रहे शीत युद्ध को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि दोनों भाइयों के बीच भी कहीं ना कहीं एक दूरी बन चुकी है। राबड़ी आवास पहुंचे तेज प्रताप यादव जब पूर्व मुख्यमंत्री के घर से बाहर निकले तो वह काफी गुस्से में दिखाई दिए।

तेज प्रताप ने कहा संजय यादव ने तेजस्वी से नहीं करने दी बात : 
गुस्से से तमतमाए राबड़ी आवास से बाहर निकले लालू यादव के बड़े बेटे और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने मीडिया कर्मियों को बताया कि वह जगदानंद सिंह को लेकर चल रहे विवाद के विषय में ही तेजस्वी यादव से बात करने यहां आए थे। लेकिन तेजस्वी यादव के सलाहकार संजय यादव ने उन्हें बातचीत करने से रोक दिया और तेजस्वी यादव को साथ लेकर अंदर चले गए। तेज प्रताप यादव ने कहा कि संजय यादव कौन होता है दो भाइयों के बीच होने वाले बातचीत को रोकने वाले। उन्होंने मीडियाकर्मियों से कहा कि आप लोग पूछिए कि संजय यादव ने उन्हें तेजस्वी यादव से बातचीत करने के लिए क्यों रोका।

दरअसल तेज प्रताप ने पहले आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह को निशाने पर लिया था। इसके बाद तेजस्वी यादव के राजनीतिक सलाहकार संजय यादव को भी अपने निशाने पर ले लिया है। बता दें कि बुधवार को जगदानंद सिंह ने जब छात्र राजद के प्रदेश अध्यक्ष आकाश यादव को हटाकर, गगन यादव को छात्र राजद का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया था। तब तेज प्रताप यादव ने ट्वीट कर तेजस्वी के राजनीतिक सलाहकार संजय यादव को हरियाणा का प्रवासी सलाहकार बताया था। इसके अलावा उन्होंने ट्वीट कर यह भी कहा था कि जो व्यक्ति हरियाणा में एक सरपंच तक नहीं बनवा सकता वह तेजस्वी यादव को खाक मुख्यमंत्री बनाएगा।

तेजस्वी के राजनीतिक सलाहकार ही नहीं बेहद करीबी भी हैं संजय यादव
हरियाणा के रहने वाले संजय यादव बतौर राजनीतिक सलाहकार के रूप में तेजस्वी यादव के साथ कई साल से जुड़े हैं। दिल्ली में हुई मुलाकात के बाद संजय यादव की क्षमता देखते हुए तेजस्वी यादव ने उन्हें अपना राजनीतिक सलाहकार बनाया था। बताया जाता है कि संजय यादव सिर्फ राजनीतिक सलाहकार ही नहीं बल्कि वह तेजस्वी यादव के रिश्तेदार भी हैं। आरजेडी के सूत्र बताते हैं कि बिहार विधानसभा 2020 में चुनावी कैंपेन पूरी तरह से संजय यादव के हाथ में था, जिसकी वजह से आरजेडी बिहार में नंबर एक की पार्टी बनकर उभर सकी।

Related Articles

Back to top button