Bihar

BIHAR: दबंगों के डर से महादलित परिवारों ने छोड़ा गांव, 3 दिन से थाने के बाहर कट रही जिंदगी

2022 नवंबर 13/ PRJ न्यूज़ ब्यूरो,बिहार:
बिहार के गोपालगंज में थाना के बाहर पनाह लिया हुआ महादलिल परिवार

दबंगों के कहर से तीन महादलित परिवारों ने गांव छोड़ दिया है. हालात ऐसे हैं कि पीड़ित परिवार एसटी-एससी थाने के बाहर पिछले तीन दिनों से छोटे-छोटे बच्चों के साथ रहने को विवश है. पुलिस पर दबंगों का रिश्तेदार होने का आरोप है. पूरा मामला गोपालपुर जिला के विक्रमपुर गांव का है. गोद में छोटे-छोटे मासूम बच्चों को लेकर कड़ाके की ठंड में ये महादलित परिवार अपना घर और गांव छोड़कर पुलिस थाने के बाहर इंसाफ की गुहार लगाने पहुंचे हैं. गोपालगंज के एसटी-एससी थाने के बाहर पिछले तीन दिनों से फरियाद लेकर बैठे हैं लेकिन पुलिस है कि उनकी सुनती नहीं.

आरोप है कि थाने का मुंशी और पुलिसकर्मी दबंगों के रिश्तेदार हैं इसलिए पुलिस कार्रवाई नहीं करती. विक्रमपुर गांव की रहने वाली चंद्रावती देवी, मीना देवी, राजबली बासफोर समेत अन्य परिवारों का आरोप है कि गांव के दबंगों ने उनका जीना मुहाल कर दिया है. कभी बच्चों के साथ दबंग मारपीट करते हैं तो कभी बेटियों के साथ छेड़छाड़ करते हैं. महादलित परिवारों का कहना है कि माल मवेशियों को रखने की वजह से पड़ोस के दबंग लोगों द्वारा उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है और गांव छोड़ने के लिए दबाव बनाया जा रहा है.

इसको लेकर गोपालपुर थाने में लिखित शिकायत की गई लेकिन पुलिस ने उनकी गुहार नहीं सुनी. डीएम और एसपी से मिलने के लिए कलेक्ट्रेट परिसर में पूरे दिन इंतजार करते रहे लेकिन अधिकारियों से मुलाकात नहीं हुई. हालांकि बाद में  जब खबर फैली  तो डीएम डॉ नवल किशोर चौधरी ने संज्ञान लिया और मामले की जांच के आदेश दिए. आनन-फानन में पीड़ित परिवारों को नगर थाना में बुलाया गया जहां एससी- एसटी की थानाध्यक्ष नेहा कुमारी और नगर इंस्पेक्टर ललन कुमार ने एक-एक कर पीड़ित परिवारों की बात को सुनी और एफआईआर दर्ज कर कानूनी कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया.

पीड़ित परिवार को रात में आश्रय स्थल में रखने का इंतजाम किया गया. अब देखना होगा कि इस मामले में पुलिस कब तक महादलित परिवार को न्याय दिला पाती है. बच्चों और महिलाओं को उनके घर पुलिस सुरक्षा का एहसास करते हुए भेज पाती है.

Related Articles

Back to top button