Business

e-स्कूटरों में अब नहीं होगा आग लगने का खतरा, सेफ बैटरियों से लैस हैं ये टू-व्हीलर

2022 नवंबर 22 / PRJ न्यूज़ ब्यूरो:
ऑटो कंपनी की रिसर्च एंड डेवलेपमेंट टीम द्वारा नए बैटरी पैक का विकास और डिजाइन इन-हाउस किया गया है. हीरो इलेक्ट्रिक का दावा है कि इसका लक्ष्य अपने उत्पाद लॉन्च और उत्पाद विकास के मामले में और अधिक आक्रामक बनना है.

हीरो इलेक्ट्रिक ने अपनी इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर रेंज के लिए बैट्रीक्स के साथ मिलकर एक नया बैटरी पैक लॉन्च करने की घोषणा की है. नई बैटरी पैक रेंज को ‘अल्ट्रा सेफ’ नाम दिया गया है. देश की सबसे बड़ी इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर कंपनी ने दावा किया कि एडवांस लिथियम-आयन बैटरी पैक भारत में बनाया गया है.

ऑटो कंपनी की रिसर्च एंड डेवलेपमेंट टीम द्वारा नए बैटरी पैक का विकास और डिजाइन इन-हाउस किया गया है. हीरो इलेक्ट्रिक का दावा है कि इसका लक्ष्य अपने उत्पाद लॉन्च और उत्पाद विकास के मामले में और अधिक आक्रामक बनना है.

नए स्कूटरों में मिलेगी ये बैटरी
अपनी नई प्रोडक्ट डेवलपमेंट स्ट्रेटेजी के हिस्से के रूप में हीरो इलेक्ट्रिक का दावा है कि वह अपने अपकमिंग टू-व्हीलर वाहनों में ज्यादा एडवांस और हाई-टेक बैटरी पैक इस्तेमाल करने पर फोकस कर रही है. नए बैटरी पैक की बात करें तो Hero Electric का दावा है कि यह नए एडवांस्ड सेल केमिस्ट्री पैक डिजाइन के साथ आता है. ऑटोमेकर का दावा है कि उसकी पार्टनर कंपनी से अगले 12 महीनों में लगभग 300,000 बैटरी पैक और चार्जर हासिल करने की योजना है.

बैटरी में मिलेगी थर्मल प्रोटेक्शन
इन नई इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर बैटरियों को बनाने में नए AIS 156 नियमों का पूरी तरह पालन किया गया है. ये बैटरियां IP67 थर्मल प्रोटेक्शन बेंचमार्क, A/V वार्निंग सिस्टम, स्मार्ट BMS और IoT के साथ लाइव डेटा ट्रैकिंग जैसे फीचर्स के साथ आती हैं. व्हीकल, कंट्रोल, बैटरी और चार्जर के बीच दो-तरफा संचार के साथ बैटरी को इंटेलीजेंट टेक्नोलॉजी  के साथ आने का भी दावा किया गया है.

क्यों ये गाड़ियां करती हैं बाजार पर राज?

5 साल से काम कर रही थी कंपनी
नए बैटरी पैक और पार्टनरशिप के बारे में बात करते हुए हीरो इलेक्ट्रिक के सीईओ सोहिंदर गिल ने कहा, “हमारी स्थानीय टीम इस तरह की बैटरी को डेवलप करने के लिए करीब 5 साल से काम कर रही थी, लेकिन कम मात्रा और ज्यादा निवेश के कारण बड़े बैटरी निर्माताओं ने इसमें कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई. बावजूद इसके हमने भारतीय मौसम की स्थिति और सड़कों के लिए उपयुक्त समाधान प्राप्त करने के लिए कई एक्सपर्ट्स के साथ अपने अनुसंधान एवं विकास प्रयासों को जारी रखा.”

Related Articles

Back to top button