AssamJorhat

JORHAT : जोरहाट में गोलीकांड के बाद एक्शन में पुलिस

2022 नवंबर 28 / PRJ न्यूज़ ब्यूरो:

 

गिरफ्तार बदमाश प्रांजल ने की हिरासत से भागने की कोशिश, पुलिस का फायर, साहस को किया सलाम

जोरहाट में शनिवार को देर शाम नवलचंद रामकिशन प्रतिष्ठान में हुई फायरिंग की वारदात में घायल कर्मचारी सुनील शर्मा अब खतरे से बाहर है। देर रात एक्सरे के बाद डॉक्टरों ने सुनील के बांयें पैर में मौजूद गोली को डिटेक्ट कर उसे सुरक्षित निकाल दिया। इस बीच असम पुलिस मुख्यालय की तरफ से आज साहस को सलाम किया गया। फायरिंग करने वाले बदमाश को पकड़ने में जाबांजी दिखाने वाले सुनील व उसकी मदद करने वाले एक अन्य कर्मचारी अनिल यादव को असम पुलिस हेडक्वार्टर की तरफ से पचास-पचास हजार रुपये के इनाम की घोषणा की गयी। कथनी को तत्काल करनी में बदलते हुए आज शाम अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मृण्मय गोस्वामी ने जोरहाट मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दोनों को यह राशि प्रदान की। इससे पहले पत्रकारों को ब्रीफ करते हुए एसपी मोहनलाल मीणा ने इसकी जानकारी दी थी।

मीणा ने पकड़े गए बदमाश की पहचान जाहिर करते हुए कहा कि शुरुआती पूछताछ में आरोपी ने अपना नाम अरुप गोगोई बताते हुए खुद को आमगुड़ी का रहने वाला बताया। मगर आज कड़ाई से पूछताछ के बाद उसने अपनी पहचान जाहिर की। प्रांजल बोरा उर्फ देहा नामक यह शातिर बदमाश नगांव जिले के सोनारी गांव का रहने वाला है। वहीं उसके साथी की पहचान राहुल साहू के रूप में की गई है। पुलिस अधीक्षक मीणा ने कहा कि दोनों शातिर बाइक चोर है। इनके खिलाफ गोलाघाट व शिवसागर थाने में कई आपराधिक मामले दर्ज है। उन्होंने कहा कि दोनों समय-समय पर अपना ठिकाना बदलते रहते है। शिवसागर व गोलाघाट में किराए के मकान में रहकर दोनों आपराधिक घटनाओं को अंजाम देते थे।

साहू के तार डिमापुर से भी जुड़े हुए है। पूछताछ में इस बात का खुलासा हुआ कि बदमाशों के पास से जब्त अवैध प्वाइंट 22 पिस्तौल डिमापुर से खरीदी गई थी। मीणा ने कहा कि कल रात मेडिकल जांच के बाद आज तड़के पुलिस की टीम प्रांजल को लेकर आमगुड़ी जा रही थी। टियोक चाय बागान के पास पुलिस का हथियार छीनकर उसने भागने की कोशिश की। मजबूरन चेतावनी देने के बाद पुलिस को उसे रोकने के लिए फायर करना पड़ा। गोली उसके बाएं पैर में घुटने के नीचे लगी है। इसके बाद उसे तत्काल जोरहाट मेडिकल कालेज अस्पताल में भर्ती कराया गया। एसपी ने कहा कि उसके साथी की तलाश में पुलिस की टीम जुटी हुई है। इससे पहले प्रतिष्ठान के मालिक अंजनी गट्टानी की तरफ से दर्ज शिकायत के आधार पर धन उगाही व हत्या का प्रयास सहित कई संगीन धाराओं में मामला दर्ज कर पुलिस ने कार्रवाई शुरू की। इस वारदात के बाद एटी रोड ट्रक स्टैंड के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गई है। यहां एक बार फिर से पुलिस व सीआरपीएफ के जवानों को तैनात किया गया है।

एसपी ने कहा कि पुलिस मामले में हर थ्योरी पर काम कर रही है। उन्होंने व्यापारियों को पूरी सुरक्षा मुहैया कराने का भरोसा दिया। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी के पास से एक बैग जब्त किया। इसमें धारदार हथियार, हेक्सो ब्लेड, नशीला रसायन सहित कई आपत्तिजनक चीजें पाई गई। कल रात घटना के बाद एसपी मीणा लंबे समय तक घटनास्थल पर डेरा डाले रहे। वहीं आला पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में मौके से जरूरी साक्ष्य संग्रह किये गये। पुलिस ने प्रतिष्ठान में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी संग्रह की है। इसमें कर्मचारी सुनील की जाबांजी और बदमाशों के दुःसाहस की साफ तस्वीर देखी जा सकती है। मालूम हो कि बीती रात 9.45 बजे बाइक सवार बदमाशों ने नवलचंद रामकिशन में घुसकर पिस्तौल की नोंक पर पैसे की मांग की। कर्मचारी सुनील के रकम देने से इंकार के बाद बदमाश प्रांजल ने उस पर गोली चला दी।

गोली सुनील के पैर में गोली लगी। इसके बावजूद उसने जाबांजी दिखाते हुए बदमाश को घसीटते हुए धर दबोचा। इसमें अनिल यादव नामक कर्मचारी ने भी सुनील की भरपूर मदद की। इन दोनों के साहस के चलते ही एक बदमाश गिरफ्त में आया और पुलिस का काम आसान हो गया। घटना के बाद शहर में सनसनी फैल गयी। इसकी दहशत व्यापारियों में आज भी देखी गई।

Related Articles

Back to top button