Bihar

बिहार के नाराज आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने साधी चुप्पी?

बुधवार को RJD प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह अचानक पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पहुंच कर सभी लोगों को चौंका दिया। बता दें कि राजनीतिक गलियारे में चर्चा यह है कि लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव के बयान के बाद से ही जगदानंद सिंह नाराज है। इसी वजह से स्वतंत्रता दिवस के दिन भी उन्होंने पार्टी कार्यालय में ध्वजारोहण नहीं किया था।

2021 अगस्त 18/ PRJ News ब्युरो पटना: 

तेज प्रताप यादव द्वारा हिटलर कहे जाने के बाद से ही नाराज चल रहे जगदानंद सिंह बुधवार को अचानक राबड़ी देवी के आवास पहुंच कर राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव से मुलाकात की। करीब दो घंटे तक चली मुलाकात के दौरान किन मुद्दों पर बात हुई यह तो नहीं पता चल सका। लेकिन इतना तय है कि दो घंटे बाद राबड़ी आवास से बाहर निकले जगदानंद सिंह का बॉडी लैंग्वेज कुछ अलग था।

मिली जानकारी के अनुसार राबड़ी देवी आवास से निकलने के बाद राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह सीधे प्रदेश कार्यालय पहुंचे। वहां उन्होंने सबसे पहला जो काम किया, वह था बिहार प्रदेश छात्र राजद के प्रदेश अध्यक्ष आकाश कुमार को हटाकर, लॉ कॉलेज के छात्र गगन कुमार को छात्र राजद का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त करना। बता दें कि 8 अगस्त को छात्र राजद की बैठक बुलाई गई थी। जिसे लेकर लगाए गए पोस्टर और होर्डिंग में सिर्फ तेज प्रताप यादव और छात्र राजद के प्रदेश अध्यक्ष आकाश कुमार की ही तस्वीर थी। यानी तेजस्वी यादव को छात्र राजद के पोस्टर और होर्डिंग में जगह तक नहीं दी गई थी।

अब क्या करेंगे जगदानंद सिंह
बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव से मुलाकात करने के बाद, राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह का अगला कदम क्या होगा, इस पर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे है। बता दें कि आमतौर पर मीडिया से खुलकर बात करने वाले जगदानंद सिंह जब राबड़ी आवास से निकले तो उन्होंने मीडिया कर्मियों से कोई बात नहीं की। राजनीतिक जानकार का मानना है कि जगदानंद सिंह की यह चुप्पी आरजेडी में आने वाले तूफान के पहले की चुप्पी है। सूत्र से मिली जानकारी के अनुसार दो घंटे चली इस मुलाकात के बाद भी जगदानंद सिंह की नाराजगी दूर नहीं हुई है। और आने वाले कुछ दिनों में राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश अध्यक्ष कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं।

बता दें कि साल 2020 में RJD में लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने कहा था कि पार्टी समुद्र होता है, उसमें से अगर एक लोटा पानी निकल भी जाए तो समुद्र को कोई फर्क नही पड़ता। दरअसल तेजप्रताप ने इशारों में पार्टी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह को लेकर यह बात कही थी। इसके बाद तेज प्रताप की बात से दुखी रघुवंश प्रसाद सिंह को मनाने की सारी कोशिश बेकार हो गई थी और उन्होंने दिल्ली एम्स में भर्ती होने के बावजूद अपना इस्तीफा लालू यादव के भेज दिया था।

इसके बाद लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष को लेकर भी कई बयान दे चुके है। 8 अगस्त 2021 को छात्र राजद के कार्यक्रम में तेज प्रताप यादव ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह को हिटलर तक कह डाला। तेज प्रताप ने कहा था कि जगदानंद सिंह सब जगह जाकर हिटलर की तरह बोलते हैं। पार्टी कार्यालय का मुख्य दरवाजा उनकी की मर्जी से ही खुलता और बंद होता है। तेज प्रताप ने यह भी कहा था कि पिताजी के समय दरवाजा हमेशा खुला रहता था, लेकिन उनके जाने के बाद बहुत लोगों ने मनमानी शुरू कर दी है। तेज प्रताप ने यहां तक कह दिया था कि कुर्सी किसी की बपौती नहीं है। क्योंकि कुर्सी किसी की नहीं होती है, यहां कब किसकी कुर्सी चली जाए किसी को नहीं पता, हम भी स्वास्थ्य मंत्री थे, लेकिन हमारी भी कुर्सी भी चली गई।

बताया गया कि तेजप्रताप के इसी बयान के बाद से ही आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने पार्टी कार्यालय आना छोड़ दिया है। हालांकि बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और लालू यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने मंगलवार को मीडिया को बयान देते हुए कहा है कि जगदानंद सिंह नाराज नही है।

Related Articles

Back to top button