Bihar

बिहार में फसल क्षति मुआवजे के लिए अब किसान की खेत में खड़े होकर तस्‍वीर लेना जरूरी नहीं !

2021सितम्बर 09/PRJ News ब्यूरो , बिहार :

बिहार की नीतीश सरकार राज्य के किसानों की मदद करने में जुटी है। इसी कड़ी में सीएम नीतीश ने राज्य के सभी जिलाधिकारियों और कृषि विभाग के अधिकारियों से कहा कि वे ‘बाढ़ के कारण फसलों की बुवाई न करने’ को ‘फसल नुकसान का मामला’ मानें और ऐसे किसानों को पर्याप्त सहायता प्रदान करें। सरकार इससे पहले यास तूफान से फसल को हुए नुकसान की भरपाई के लिए राशि का वितरण और आवेदनों की जांच साथ-साथ कराने का आदेश दे चुकी है। आइए जानते हैं मुआवजे के लिए सरकार ने किन नियमों के बदलाव किया और कैसे आवेदन कर सकते हैं।

सबसे पहले बात करते हैं मुआवज के लिए किसानों की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए किए गए बदलवा को लेकर। राज्य सरकार के कृषि विभाग ने कोरोना को देखते हुए जांच प्रक्रिया में बदलवा किया है। पहले किसान को मुआवजा पाने के लिए अपने खेत में खड़े होकर फोटो खिंचवाना पड़ता था, अब उसकी जरूरत नहीं होगी। फोटो की जगह कृषि समन्वयक को शपथ पत्र देना होगा कि जांच में मुआवज के लिए किसान की ओर से किया गया दावा सही पाया गया है। शपथ पत्र पर एडीएम की मुहर के बाद ही किसान को भुगतान किया जा सकेगा।

इन जिलों में हुआ था यास तूफान से नुकसान
अब बात करते हैं सरकार की ओर से यास तूफान से हुए नुकसान के लिए कितने हेक्टेयर के लिए क्षतिपूर्ती की जाएगी तो आपको बता दें सरकार की ओर से एक किसान को ज्यादा से ज्यादा दो हेक्टेयर के लिए ही क्षतिपूर्ति दी जाएगी। दरअसल, तूफान यास ने 26 से 28 मई के बीच बिहार के 16 जिलों में सबसे ज्यादा फसलों को नुकसान पहुंचाया था। ये जिले हैं पटना, कटिहार, भोजपुर, बक्सर, अररिया, अरवल, पूर्णियां, पश्चिमी चम्पारण, मधेपुरा, वैशाली, दरभंगा, मधुबनी, शेखपुरा, लखीसराय, खगडिया और सहरसा।

मुआवजे के लिए ऐसे करें आवेदन
कृषि विभाग ने मुआवजे के लिए किसानों की मदद के लिए एक हेल्पलाइन बनायी है। इस टोल फ्री नंबर 1800180155 पर फोन कर किसान मदद ले सकते हैं। मदद के लिए जिला कृषि पदाधिकारी से भी किसान संपर्क कर सकता है। आवेदन के लिए बिहार कृषि विभाग की वेबसाइट पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते है। किस जिला के किस प्रखंड और पंचायतों के किसान पात्र हैं, इसकी dbtagriculture.bihar.gov.in पर सूची अपलोड कर दी गयी है।

Related Articles

Back to top button