Health

JORHAT : जयश्री के मासखमण तप के पुण्य से आज ठाकुरबाड़ी परिसर होगा प्रकाशित

शोभयात्रा के साथ तप अभिनंदन समारोह, समाज के लिए लंबे अर्से बाद दुर्लभ अवसर

2022 सितंबर 26/PRJ न्यूज़ ब्यूरो,जोरहाट:

जयश्री के मासखमण तप के पुण्य से आज ठाकुरबाड़ी परिसर होगा प्रकाशित

धर्मनगरी जोरहाट का प्राण केंद्र श्री मारवाड़ी ठाकुरबाड़ी परिसर विभिन्न जप-तप व अनुष्ठान से दैदीप्यमान होता रहता है। इसी क्रम में कल ठाकुरबाड़ी परिसर स्थित जैन तेरापंथ भवन में तपस्विनी जयश्री नाहटा के मासखमण तप की अनुमोदना व अभिनंदन कार्यक्रम से यहां पुण्य प्रकाश एक बार फिर फैलता नज़र आएगा।

जोरहाट तेरापंथ समाज में लंबे अर्से बाद यह अवसर है, जब मासखमण तप का भाव लेकर तपस्या मार्ग पर चलने का कार्य किसी ने पूर्ण कर दिखाया है। जोरहाट के राजा मैदाम निवासी शरद नाहटा की धर्मपत्नी जयश्री इससे पहले भी तप के विभिन्न साधनों को अपना चुकी है। लेकिन मासखमण का संकल्प पूरा कर उसने समस्त समाज को गौरवान्वित होने का अवसर प्रदान किया है।

जयश्री के तप की अनुमोदना के लिए गुवाहाटी से समणीवृंद आज खास तौर पर यहां पधारी। समणी निर्देशिका मधुरप्रज्ञाजी के साथ उनकी सहवर्तिनी समणी शुभप्रज्ञाजी व मननप्रज्ञाजी के सान्निध्य में कल सुबह दस बजे से जैन तेरापंथ भवन में अभिनंदन समारोह आयोजित होगा।

इससे पहले सुबह नौ बजे राजा मैदाम स्थित नाहटा निवास से तपस्विनी जयश्री की शोभयात्रा मारवाड़ी पट्टी, ओल्ड बालीबाट व गराली होते हुए श्री मारवाड़ी ठाकुरबाड़ी पहुंचेगी। जयश्री के इस तप के पूर्ण होने पर समाज में भी उत्साह की उमंग है। तेरापंथ महिला मंडल की अध्यक्षा मनुजा पींचा ने जयश्री के तप साधन को वर्तमान पीढ़ी के लिए एक प्रेरणापुंज बताया। वहीं मंडल की निवर्तमान अध्यक्षा राजश्री बुच्चा ने मासखमण जैसे महान तप को धारण करने पर जयश्री की सराहना की। राजश्री ने कहा कि मोक्ष प्राप्ति के चार साधनों में तपस्या अन्यतम साधन है।

आत्मा की पवित्रता व मन की निर्मलता के साथ कर्मों की निर्जरा तपस्या से मिलती है। एक महीने निराहार रह कर अपनी रसना पर यह संयम साधना अद्भुत है।

वहीं तेरापंथ युवक परिषद भी जयश्री के तप पूर्ण होने पर हर्षित है। तेयुप के अध्यक्ष केतन हीरावत ने बताया कि इस तप की साधना कर जयश्री ने युवाओं को अध्यात्म से साक्षात्कार करने की राह दिखाई है। राजस्थान के सरदारशहर निवासी व जोरहाट प्रवासी स्वर्गीय मदनलाल नाहटा व सरला नाहटा की पुत्रवधू जयश्री के इस तप की आभा कल अपने चरम पर नज़र आएगी। जैन श्वेतांबर तेरापंथ सभा के अध्यक्ष अशोक भूतड़िया ने कल होने वाले

अभिनंदन

समारोह में सभी समाजबंधुओं की उपस्थिति की कामना की है।

Related Articles

Back to top button